क्रिकेट में बदला लेने के कुछ क्लासिक उदाहरण क्या हैं?

क्रिकेट, जिसे अक्सर सज्जनों का खेल कहा जाता है, निष्पक्ष खेल, खेल भावना और सौहार्द की भावना के लिए जाना जाता है। हालाँकि, क्रिकेट इतिहास में ऐसे उदाहरण हैं जहाँ भावनाएँ उमड़ पड़ीं, जिसके परिणामस्वरूप मैदान पर बदले की भावना पैदा हुई। बदला लेने के इन क्लासिक उदाहरणों ने खेल में नाटक और विवाद का स्पर्श जोड़ दिया है।

इस लेख में, हम क्रिकेट में बदला लेने के कुछ सबसे प्रतिष्ठित उदाहरणों का पता लगाएंगे, जहां खिलाड़ियों और टीमों ने स्कोर बराबर करने या कथित अन्याय का जवाब देने की कोशिश की। कुख्यात झगड़ों से लेकर रणनीतिक रणनीति तक, इन घटनाओं ने खेल के इतिहास पर एक स्थायी प्रभाव छोड़ा है।

बॉडीलाइन सीरीज (1932-33)

Bodyline Series (1932-1933)

1932-33 में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच बॉडीलाइन श्रृंखला क्रिकेट इतिहास में बदले की सबसे विवादास्पद घटनाओं में से एक देखी गई। ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज डॉन ब्रैडमैन की बल्लेबाजी क्षमता का मुकाबला करने के लिए अंग्रेजी कप्तान डगलस जार्डिन ने “लेग थ्योरी” या “बॉडीलाइन” गेंदबाजी के रूप में जानी जाने वाली रणनीति तैयार की। इस रणनीति में तेज गेंदबाज जानबूझकर शॉर्ट-पिच गेंदों से बल्लेबाजों के शरीर को निशाना बनाते थे। श्रृंखला ने टीमों के बीच तीव्र प्रतिद्वंद्विता और तनाव पैदा कर दिया, ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने मौखिक और शारीरिक रूप से जवाबी कार्रवाई की। बॉडीलाइन से जुड़े विवाद का क्रिकेट पर स्थायी प्रभाव पड़ा, जिससे गेंदबाजी नियमों में बदलाव आया और दोनों देशों के बीच तनावपूर्ण संबंध पैदा हुए।

जावेद मियांदाद बनाम डेनिस लिली (1981)

1981 में पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के बीच एक टेस्ट मैच के दौरान, पाकिस्तानी बल्लेबाज जावेद मियांदाद और ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज डेनिस लिली के बीच मैदान पर एक कुख्यात विवाद हो गया।

मियांदाद को लिली की लगातार छींटाकशी और शारीरिक संपर्क से उत्तेजना महसूस हुई, जिसके कारण एक विस्फोटक क्षण आया। जवाबी कार्रवाई में, मियांदाद ने लिली की गेंदबाजी एक्शन की नकल की, जिससे लिली को निराशा में मियांदाद को लात मारने के लिए प्रेरित किया। इस घटना ने खेल में आक्रामकता और बदले के बीच की पतली रेखा को उजागर करते हुए आक्रोश और बहस छेड़ दी।

सौरव गांगुली की शर्ट लहराने की घटना (2002)

sourav ganguly removing his shirt

भारतीय क्रिकेटर सौरव गांगुली से जुड़ी प्रतिष्ठित शर्ट लहराने की घटना 2002 में इंग्लैंड के खिलाफ नेटवेस्ट सीरीज फाइनल के दौरान हुई थी। एक चुनौतीपूर्ण लक्ष्य का पीछा करते हुए, गांगुली ने अपनी आक्रामक बल्लेबाजी से उल्लेखनीय वापसी की। जब भारत ने जीत हासिल की, तो गांगुली ने अंग्रेजी टीम के खिलाफ अवज्ञा और बदले की कार्रवाई में, लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड पर जश्न मनाते हुए अपनी शर्ट उतार दी और जोर से लहराई। यह घटना भारत की अवज्ञा का प्रतीक है और भारतीय क्रिकेट में एक महत्वपूर्ण मोड़ साबित हुई, जिसने एक नए आत्मविश्वास और आक्रामकता का प्रदर्शन किया।

हरभजन सिंह और एंड्रयू साइमंड्स (2008)

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 2008 के सिडनी टेस्ट मैच में भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह और ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स के बीच तीखी नोकझोंक देखी गई। हरभजन ने कथित तौर पर साइमंड्स के खिलाफ नस्लीय टिप्पणी की, जिससे बेहद विवादास्पद स्थिति पैदा हो गई।

इस घटना के परिणामस्वरूप हरभजन पर पहले तो प्रतिबंध लगा दिया गया लेकिन बाद में सबूतों के अभाव में उन्हें आरोप से मुक्त कर दिया गया। इस विवाद से टीमों के बीच रिश्ते तनावपूर्ण हो गए और क्रिकेट में नस्लीय मुद्दों पर बहस छिड़ गई।

इयान बॉथम का बदला (1981)

महान इंग्लिश ऑलराउंडर इयान बॉथम ने 1981 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एशेज सीरीज के दौरान बदला लेने की कोशिश की थी। पहले टेस्ट मैच में खराब प्रदर्शन के बाद बॉथम को मीडिया की आलोचना और उनकी कप्तानी पर संदेह का सामना करना पड़ा।

हेडिंग्ले में अगले टेस्ट में, बॉथम ने शानदार वापसी करते हुए शतक बनाया और पांच विकेट लेकर इंग्लैंड को शानदार जीत दिलाई। इस उल्लेखनीय बदलाव ने न केवल उनके आलोचकों को चुप करा दिया बल्कि यह एशेज इतिहास में एक प्रतिष्ठित क्षण बन गया, जिसने बॉथम के लचीलेपन और दृढ़ संकल्प को प्रदर्शित किया।

मंकीगेट स्कैंडल (2008)

Monkeygate Scandal (2008)

कुख्यात “मंकीगेट” कांड भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 2008 की टेस्ट श्रृंखला के दौरान हुआ था। भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह पर ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स पर नस्लीय टिप्पणी करने और उन्हें “बंदर” कहने का आरोप लगा था। इस घटना के कारण दोनों टीमों के बीच काफी हंगामा हुआ और तनावपूर्ण संबंध हो गए। शुरुआत में हरभजन को दोषी पाया गया और उन पर प्रतिबंध लगा दिया गया, लेकिन बाद में अपर्याप्त सबूतों के कारण फैसला पलट दिया गया। इस घटना ने स्लेजिंग के प्रभाव और मैदान पर खिलाड़ी के व्यवहार को प्रबंधित करने में आने वाली चुनौतियों पर प्रकाश डाला।

सैंडपेपर गेट (2018)

दक्षिण अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के बीच 2018 टेस्ट श्रृंखला के दौरान सैंडपेपर गेट घोटाले ने क्रिकेट जगत को सदमे में डाल दिया। ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी कैमरून बैनक्रॉफ्ट, स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर को अनुचित लाभ प्राप्त करने के प्रयास में सैंडपेपर का उपयोग करके गेंद से छेड़छाड़ करते हुए पकड़ा गया था। कैमरे में कैद हुई इस घटना के कारण इसमें शामिल खिलाड़ियों को गंभीर परिणाम भुगतने पड़े, जिनमें निलंबन और उनकी प्रतिष्ठा को काफी नुकसान पहुंचा।

इस घोटाले को बदला लेने की गलत रणनीति के रूप में देखा गया, क्योंकि ऑस्ट्रेलियाई टीम को प्रशंसकों, मीडिया और क्रिकेट अधिकारियों की आलोचना और प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ा।

वेंकटेश प्रसाद का बदला (1996)

Venkatesh Prasad-Aamir Sohail Clash (1996)

भारत और पाकिस्तान के बीच 1996 विश्व कप क्वार्टर फाइनल मैच के दौरान, भारतीय तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने पाकिस्तानी बल्लेबाज आमिर सोहेल से बदला लिया। सोहेल ने प्रसाद पर चौका लगाया था और आक्रामकता दिखाते हुए अपना बल्ला सीमा रेखा की ओर कर दिया, मानो प्रसाद को चुनौती दे रहे हों। अगली ही गेंद पर प्रसाद ने सोहेल को ऑफ स्टंप पर बोल्ड कर दिया। प्रसाद की प्रतिशोधात्मक प्रतिक्रिया ने सोहेल को चुप करा दिया और यह भारत-पाकिस्तान क्रिकेट इतिहास में एक प्रतिष्ठित क्षण बन गया।

माइकल एथरटन का पलटवार (1998)

1998 में इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका के बीच एक टेस्ट मैच के दौरान, इंग्लैंड के कप्तान माइकल एथरटन ने खुद को तनावपूर्ण स्थिति में पाया। विपक्ष द्वारा गेंद से छेड़छाड़ का आरोप लगाए जाने के बाद, एथरटन को गहन जांच का सामना करना पड़ा। जवाब में, उन्होंने कैमरे के सामने गेंद पर आक्रामक तरीके से गंदगी रगड़कर जवाबी हमला करने का फैसला किया। इस कृत्य को आरोपों के प्रति प्रतिशोध के उपाय के रूप में देखा गया और विवाद के सामने एथरटन की अवज्ञा को प्रदर्शित किया गया।

इंग्लैंड के ख़िलाफ़ पाकिस्तान का बदला (2017)

2009 में श्रीलंकाई क्रिकेट टीम पर आतंकवादी हमले के बाद, पाकिस्तान में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट निलंबित कर दिया गया था, और देश को अपने “घरेलू” मैच तटस्थ स्थानों पर खेलने पड़े।

हालाँकि, 2017 में, अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट पाकिस्तान में लौट आया जब उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ एक श्रृंखला की मेजबानी की। इस श्रृंखला को पाकिस्तान द्वारा बदले की कार्रवाई और लचीलेपन के बयान के रूप में देखा गया, यह दर्शाता है कि देश एक बार फिर घरेलू धरती पर सुरक्षित क्रिकेट मैच आयोजित करने में सक्षम है।

सचिन तेंदुलकर की डेजर्ट स्टॉर्म (1998)

1998 में शारजाह में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच कोका-कोला कप में एक महत्वपूर्ण मैच के दौरान, सचिन तेंदुलकर ने बदला लेने का असाधारण प्रदर्शन किया। फाइनल के लिए क्वालीफाई करने के लिए एक चुनौतीपूर्ण लक्ष्य का पीछा करते हुए, तेंदुलकर ने बढ़ते तापमान और घुमावदार रेतीले तूफानों के बीच अकेले ही ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजी आक्रमण का सामना किया।

लगातार मैचों में उनकी 143 और 134 रनों की तूफानी पारी, जिसे “डेजर्ट स्टॉर्म” के नाम से जाना जाता है, ने भारत को जीत दिलाई और फाइनल में अपनी जगह पक्की की, ऑस्ट्रेलिया से बदला लिया और तेंदुलकर को क्रिकेट के दिग्गज के रूप में स्थापित किया।

निष्कर्ष

क्रिकेट में बदले की घटनाएं, हालांकि विवादास्पद हैं, उन्होंने खेल के इतिहास पर एक अमिट छाप छोड़ी है। छेड़छाड़ के घोटालों से लेकर अवज्ञा के व्यक्तिगत कृत्यों तक, इन उदाहरणों ने बहस को जन्म दिया है, करियर में बदलाव किया है और विशिष्ट मैचों या श्रृंखलाओं की कहानी को आकार दिया है। जबकि निष्पक्ष खेल की भावना से बदला लेने को प्रोत्साहित नहीं किया जाना चाहिए, ये घटनाएं मानवीय भावनाओं और प्रतिद्वंद्विता की याद दिलाती हैं जो उच्च दबाव वाले खेल वातावरण में उभर सकती हैं। वे खेल में जटिलता की एक परत जोड़ते हैं और क्रिकेट के मैदान पर प्रकट होने वाली भावनाओं और कार्यों की श्रृंखला को प्रदर्शित करते हैं।

Leave a Reply

TheTopBookies